Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

है जी कोई खरीददार?

कोई ज़मीन बेचता है
कोई मक़ान बेचता है
कोई पूर्वजों के क़ीमती
सामान बेचता है
मैं तो फ़न बेचता हूं
मैं हूं एक फ़नकार
मैं बस फ़न बेचता हूं
है जी कोई खरीददार
मैं तो फ़न बेचता हूं…
#सर्वश्रेष्ठगीतकार #Shayar
#विद्रोही #कवि #Bollywood
#BestLyricist #Geetkar
#poet #RomanticRebel

Language: Hindi
119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
ख़ुद की खोज
ख़ुद की खोज
Surinder blackpen
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
■ गाली का जवाब कविता-
■ गाली का जवाब कविता-
*प्रणय प्रभात*
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
2902.*पूर्णिका*
2902.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़ज़ल(नाम जब से तुम्हारा बरण कर लिया)
ग़ज़ल(नाम जब से तुम्हारा बरण कर लिया)
डॉक्टर रागिनी
नशीहतें आज भी बहुत देते हैं जमाने में रहने की
नशीहतें आज भी बहुत देते हैं जमाने में रहने की
शिव प्रताप लोधी
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
फितरत
फितरत
Mamta Rani
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...