Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।

गज़ल

काफिया- आर की बंदिश
रदीफ- है मुझ पर
वज़्न:
1212….1122….1212…22
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
उसी को मारने का खूं सवार है मुझ पर।

के जब भी मांगा, हमें वो खुशी से देते रहे,
हिसाब बाकी है कितना उधार है मुझ पर।

शराब आज पिलाना नहीं मुझे साकी,
जो कल पिलाई थी उसका खुमार है मुझ पर।

मुझे ही खोज रहे हैं तुम्हारे दीवाने,
तमाम आंखों का जैसे रडार है मुझ पर।

मुझे न चाहिए दुनियां से और कुछ प्रेमी,
जो तेरा हाथ हे परवरदिगार है मुझ पर।

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
प्यार
प्यार
लक्ष्मी सिंह
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
Satish Srijan
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
Annu Gurjar
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
यहाँ कुशलता रेंगती, वहाँ बताएँ मित्र (कुंडलिया)
यहाँ कुशलता रेंगती, वहाँ बताएँ मित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
केवल
केवल
Shweta Soni
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"भव्यता"
*Author प्रणय प्रभात*
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पुष्प
पुष्प
Er. Sanjay Shrivastava
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
2519.पूर्णिका
2519.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जो कहा तूने नहीं
जो कहा तूने नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
Loading...