Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2016 · 1 min read

है खुमारी अभी’ हम पर चढ़ी’ तरुणाई की

है खुमारी अभी’ हम पर चढ़ी’ तरुणाई की
इसलिये भाती’ हमें बात भी’ तन्हाई की

चाहिये साथ तुम्हारा हमें’ जीवन भर का
बात मत करना’ कभी तुम सुनो’ रुसवाई की

हम दिखा देंगे’बढ़ा आगे’ कदम भी देखो
पर जरूरत है’ हमें हौसला’ अफजाई की

हाथ में हाथ लिए साथ चलो गर तुम तो
हो न परवाह हमें अपनी’ भी’परछाई की

जब कहा तुमने’ युगों का ये’ हमारा बंधन
कान में गूंज उठी थी धुन शहनाई की

डूबकर इसमें’ निकलना ही’ बड़ा है मुश्किल
‘अर्चना’ बात बड़ी प्यार में’ गहराई की

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र )

2 Comments · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐प्रेम कौतुक-361💐
💐प्रेम कौतुक-361💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
सबके राम
सबके राम
Sandeep Pande
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
ज़मानें हुए जिसको देखे हुए।
ज़मानें हुए जिसको देखे हुए।
Taj Mohammad
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
51-   सुहाना
51- सुहाना
Rambali Mishra
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पतझड़ तेरी वंदना, तेरी जय-जयकार(कुंडलिया)
पतझड़ तेरी वंदना, तेरी जय-जयकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
रवीश कुमार का मज़ाक
रवीश कुमार का मज़ाक
Shekhar Chandra Mitra
Daily Writing Challenge : घर
Daily Writing Challenge : घर
'अशांत' शेखर
Loading...