Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2020 · 1 min read

है कौन सबसे विशाल?

बारंबार मन में उठता एक सवाल,
है कौन सबसे विशाल?
पूछा हमने शैल शिखर से,
क्या है तू सबसे विशाल?
कहा पर्वत हाँ दिखता हूँ विशाल,
है पर इसका किस्सा कमाल,
है उस धरणी का सहयोग बड़ा,
जो है मृदुल वात्सल्य धरा,
मुझे शिखर बनाने में,
सबसे ऊपर दिखलाने में,
अपनी कोमलता का त्याग कर,
स्व विजय भाव को हार कर,
बीते उनके असंख्य काल,
फिर कहूँ कैसे मैं विशाल ।

हमने पूछा जा फिर सागर से,
क्या है तू सबसे विशाल?
हाँ दिखता अवश्य विशाल,
संकुचित चित में है एक मलाल,
है उन नदियों का सहयोग बड़ा,
सच पूछो नतमस्तक हूँ मैं खड़ा,
जलधि का मीठा पानी,
जीवन पाए हर एक प्राणी
मिल मुझमें नदियों की धारा,
हुआ अमृत जल भी खारा,
हँसते कर से दिया ताल,
फिर कहूँ कैसे मैं विशाल ?

हे द्रुम! प्राणवायु के दाता,
क्या है तू सबसे विशाल?
हाँ दिखती शाखा मेरी विशाल,
पर स्मरणीय है वह सत्य हाल,
भले ह्रस्व लता मेरी छाया में पलते,
प्रलय बाढ में मुझसे पहले लड़ते,
जब जब डोले पावन धरणी,
जकड़ लड़े बन जीवनसंगिनी,
है वह मेरा, मैं उनका आश्रित,
तुही बता कौन है पराश्रित,
मेरी रक्षार्थ बुना अपना जाल,
फिर कहूँ कैसे मैं विशाल।

फिर मानव क्यों ?- – – क्रमशः
उमा झा

Language: Hindi
8 Likes · 6 Comments · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from उमा झा
View all
You may also like:
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
gurudeenverma198
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🙅DNA REPORT🙅
🙅DNA REPORT🙅
*प्रणय प्रभात*
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
दृष्टि
दृष्टि
Ajay Mishra
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
"नाश के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
Phool gufran
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
DrLakshman Jha Parimal
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
राम की रहमत
राम की रहमत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
Loading...