Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2021 · 1 min read

“हैप्पी बर्थडे हिन्दी”

(हिन्दी दिवस पर विशेष)

“हैप्पी बर्थडे हिन्दी”
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

नीचे धरती, ऊपर अम्बर;
देखो, फिर आया 14 सितम्बर।
बंगाली बोले, तमिल बोले,
मराठी बोले, गुजराती बोले,
और बोले आज सिन्धी;
हैप्पी बर्थडे , हैप्पी बर्थडे हिन्दी।।

ये सबको प्यारी है,
देशी भाषाओं की क्यारी है;
हर भाषा को यही सवांरी है।
मगर कुछ लोगों की ये गद्दारी है;
जिससे अंग्रेजी के पीछे होना,
इसकी लाचारी है।।

14 सितम्बर, जब भी आते,
आनन-फानन में सब,
हिन्दी दिवस मनाते।
हिन्दी के लिए खूब प्यार लुटाते,
कुछ होने-जोने को है नहीं;
फिर, हिंदीभाषी को ही सब सताते।।

राजभाषा से राष्ट्रभाषा की,
यात्रा होगी कब पूरी।
हम हैप्पी बर्थडे मनाते रहें;
और, राष्ट्रभाषा की सपना,
न रह जाए अधूरी।।

स्थिति इतनी विकट है,
संघ के परीक्षा परिणामों में,
सब प्रकट है;
हजार में दस, हिंदीभाषी आते,
वो भी अहिंदियों के सामने शर्माते।
फिर, मरहम स्वरूप 14 सितम्बर को,
सब हैप्पी बर्थडे हिन्दी मनाते।।

हैप्पी बर्थडे मनाना,
देशी सभ्यता का प्रतीक नहीं;
हर,14 सितम्बर को यों ही ,
हिन्दी दिवस मनाना ठीक नहीं।
आखिर कब तक, ये सब चलता रहेगा;
‘हिन्दी’ बस, दिवस की;
भावनाओं में बहता रहेगा।।

जिसका जन्म दिवस आता है,
उसकी पुण्यतिथि भी आती है;
हिन्दी की पुण्यतिथि आने से पहले,
दिवस मनाना छोड़ो,ऐ कुर्सीवालोंं,
हिन्दी को, जल्द राष्ट्रभाषा बना डालो,
जल्द राष्ट्रभाषा बना डालो।।
*************************
जय हिंद……………. जय हिंदी

—धन्यवाद—

स्वरचित सह मौलिक :-
……✍️ पंकज “कर्ण”
…………..कटिहार।।
14 सितंबर ,

Language: Hindi
9 Likes · 7 Comments · 970 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
करूणा का अंत
करूणा का अंत
Sonam Puneet Dubey
मैं और सिर्फ मैं ही
मैं और सिर्फ मैं ही
Lakhan Yadav
युवा
युवा
Akshay patel
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वेदना की संवेदना
वेदना की संवेदना
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
ये सूरज के तेवर सिखाते हैं कि,,
ये सूरज के तेवर सिखाते हैं कि,,
Shweta Soni
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
"अपदस्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
अरे धर्म पर हंसने वालों
अरे धर्म पर हंसने वालों
Anamika Tiwari 'annpurna '
कभी उलझन,
कभी उलझन,
हिमांशु Kulshrestha
जिंदगी का कागज...
जिंदगी का कागज...
Madhuri mahakash
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
खुद के अंदर ही दुनिया की सारी खुशियां छुपी हुई है।।
खुद के अंदर ही दुनिया की सारी खुशियां छुपी हुई है।।
पूर्वार्थ
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
जीवन पथ एक नैय्या है,
जीवन पथ एक नैय्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2780. *पूर्णिका*
2780. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...