Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,

हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
तेरा स्वागत करने वीर खड़ा प्रसन्न मुख आगे खड़ा है..🥺🥺
Vishal babu

4 Likes · 12676 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2799. *पूर्णिका*
2799. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
जो चाकर हैं राम के
जो चाकर हैं राम के
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*प्रणय प्रभात*
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
सियासत जाती और धर्म की अच्छी नहीं लेकिन,
सियासत जाती और धर्म की अच्छी नहीं लेकिन,
Manoj Mahato
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
नजर और नजरिया
नजर और नजरिया
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...