Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2016 · 1 min read

हे प्रिये ! अपना कान लाओ तो जरा…

हे प्रिये,
ये मेरे हस्ताक्षर की हुईं कुछ खाली चेकें हैं,
मेरे बैंक अकाउंट की स्टेटमेंट के साथ,
इन्हें तुम इस्तेमाल कर लेना,
जब-जब तुम्हारा हाथ तंग सा लगे तुम्हें ।

ये जमीन, ये मकान,
जो विरासत में मिले थे मुझे,
अपने बाप-दादाओं से,
इन सभी के कागजात,
ज्यों के त्यों रखे हैं लाल कपड़े में लिपटे हुए,
उस अलमारी में .
इन्हें तुम भी सौंप जाना नयी पीढ़ी को,
मेरे पूर्वजों की तरह ।

अब मैं सौंपना चाहता हूँ तुम्हें,
अपने जीवन में कमाए हुए,
अनमोल धन की चाभी,
इसे तुम केवल अपने दिल में रखना,
और दे जाना किसी अबोध को,
जो जीवन भर अबोध ही रहे,
एक निश्छल कवि की तरह ।

हे प्रिये,
अपना कान लाओ तो ज़रा,
मेरे मुँह के पास,
और ध्यान से सुनो,
यह है मेरा पासवर्ड,
sahityapedia.com का ।

***********************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰), संपर्क-9450630695
************************************************

Language: Hindi
Tag: कविता
281 Views
You may also like:
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
बेटियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वफा और बेवफा
Anamika Singh
शतरंज है कविता
Satish Srijan
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
✍️काही आठवणी स्मरतांना
'अशांत' शेखर
दिल टूट गईल
Shekhar Chandra Mitra
- ग़ज़ल ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आईने के पास जाना है
Vinit kumar
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
सुनते नहीं मिरी बात देखिए
Dr. Sunita Singh
चौवालीस दिन का नर्क (जुन्को फुरुता) //Forty-four days of hell....
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपना अंजाम फिर आप
Dr fauzia Naseem shad
"प्यारे मोहन"
पंकज कुमार कर्ण
नींद में गहरी सोए हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
उठ मुसाफिर
Seema 'Tu hai na'
इतिहास लिखना है
Shakti Tripathi Dev
तितली
लक्ष्मी सिंह
बेटियाँ
shabina. Naaz
अल्फाज़ ए ताज भाग-9
Taj Mohammad
■ आजकल
*Author प्रणय प्रभात*
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
'ख़त'
Godambari Negi
Loading...