Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2016 · 1 min read

हे प्रिये ! अपना कान लाओ तो जरा…

हे प्रिये,
ये मेरे हस्ताक्षर की हुईं कुछ खाली चेकें हैं,
मेरे बैंक अकाउंट की स्टेटमेंट के साथ,
इन्हें तुम इस्तेमाल कर लेना,
जब-जब तुम्हारा हाथ तंग सा लगे तुम्हें ।

ये जमीन, ये मकान,
जो विरासत में मिले थे मुझे,
अपने बाप-दादाओं से,
इन सभी के कागजात,
ज्यों के त्यों रखे हैं लाल कपड़े में लिपटे हुए,
उस अलमारी में .
इन्हें तुम भी सौंप जाना नयी पीढ़ी को,
मेरे पूर्वजों की तरह ।

अब मैं सौंपना चाहता हूँ तुम्हें,
अपने जीवन में कमाए हुए,
अनमोल धन की चाभी,
इसे तुम केवल अपने दिल में रखना,
और दे जाना किसी अबोध को,
जो जीवन भर अबोध ही रहे,
एक निश्छल कवि की तरह ।

हे प्रिये,
अपना कान लाओ तो ज़रा,
मेरे मुँह के पास,
और ध्यान से सुनो,
यह है मेरा पासवर्ड,
sahityapedia.com का ।

***********************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰), संपर्क-9450630695
************************************************

Language: Hindi
401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दरवाज़े
दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
होली
होली
नेताम आर सी
*रोते-रोते जा रहे, दुनिया से सब लोग (कुंडलिया)*
*रोते-रोते जा रहे, दुनिया से सब लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
प्रेम
प्रेम
Satish Srijan
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"हमदर्दी"
Dr. Kishan tandon kranti
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
gurudeenverma198
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
Loading...