Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो

हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो

हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
मुख मंडल की शोभा न्यारी , प्रभु अपनी छवि हेमे दिखा दो

चरण कमल हम आये तुम्हारी , ह्रदय से अपने प्रभु लगा लो
तुम हो सबके दुःख के साथी , बीच भंवर से पार लगा दो

सच की हमको राह दिखा दो , मन दर्पण को पावन कर दो
पुष्पों की खुशबू सा जीवन , उपवन का हमको फूल बना दो

सुन्दर मन , काया हो सुन्दर , हे प्रभु नैया पार लगा दो
रत्नाकर सा व्यापक हो ह्रदय , संस्कारों की राह दिखा दो

मन पावन हो जाए प्रभु जी , धन , वैभव अम्बार लगा दो
भक्ति रस से सरावोर हो जीवन , चरण कमल प्रभु पास बिठा लो

मंगल कर्म सभी हों मेरे , जीवन मुक्ति मार्ग दिखा दो
हर्षित हो मन , हर्षित हो तन , ऐसे प्रभु मेरे भाग्य जगा दो

सूर्य सा प्रभु तेज हो मेरा , ऐसे आसमां पर मुझे बिठा दो
संसार मोह से मुक्त करो प्रभु, जीवन को सत राह दिखा दो

मन हो निर्मल, कर्म हो मंगल , ऐसे पुण्य प्रयास करा दो
बन जाऊं मैं पूर्ण सन्यासी , वन हेतु प्रस्थान करा दो

मंगल कारज पूर्ण करो सब , मंगल कार्यों में मुझे लगा दो
माया मोह में मैं न उलझूं , प्रभु मुझको तुम राह दिखा दो

हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
मुख मंडल की शोभा न्यारी , प्रभु अपनी छवि हमें दिखा दो

2 Likes · 381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
वक़्त की मुट्ठी से
वक़्त की मुट्ठी से
Dr fauzia Naseem shad
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
Neeraj Agarwal
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
साँस रुकी तो अजनबी ,
साँस रुकी तो अजनबी ,
sushil sarna
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जय लगन कुमार हैप्पी
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
Jogendar singh
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रदीप : श्री दिवाकर राही  का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
Ravi Prakash
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
जीवनदायिनी बैनगंगा
जीवनदायिनी बैनगंगा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...