Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

हे पिता ! जबसे तुम चले गए …( पिता दिवस पर विशेष)

हे पिता ! जबसे गए तुम ,
हमारी दुनिया ही उजड़ गई ।
हर आनंद जीवन का और ,
हर खुशी जमाने कि छिन गई ।
वो सुकून ,वो चैन ओ करार,
वो मस्ती भी कहीं खो सी गई ।
तुम्हारा सर पर साया था जब तक ,
हमें कभी गम की हवा छू न पाई ।
और जब तुम चले गए जबसे चमन से,
आंधियां सी दर्द ओ गम की चल गई ।
क्या बताएं ! इस दुनिया ने कितना सताया,
बहुत तड़पा दिल ,आंखें तुम्हारे पहलू में रोई।
मगर तुम्हें कुछ एहसास है या नहीं,
क्योंकि कभी पैगाम तूने भेजा ना कोई ।
सपनों में भी अब तो कभी कभी आए,
खामोश रहें लब तेरे बात न करे कोई ।
क्या तुम अपना प्यार दुलार सब भूल गए ,
हमने तुम्हारे साथ साथ यह दौलत भी खोई ।
अब और क्या शिकवा शिकायत करें ,
जाने वालों पर किसी का बस चलता है कोई ?
अब जहां भी रहो खुश रहो तुम ,आबाद रहो,
हम अनाथों का नाथ ईश्वर के सिवा है ना कोई ।

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
2659.*पूर्णिका*
2659.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
कितने बेबस
कितने बेबस
Dr fauzia Naseem shad
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
* शुभ परिवर्तन *
* शुभ परिवर्तन *
surenderpal vaidya
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
Buddha Prakash
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...