Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

हे चाणक्य चले आओ

चन्द्रगुप्त ओर चाणक्य के मिलन से ही
नवनिर्माण हुआ था
एक शिष्य ने गुरू के वचनो को
शिरोधार्य किया था
कठिन चुनौती अथक परिश्रम
ओर साहस से
एक साधारण सा बालक चन्द्रगुप्त मौर्य
महाशासक बना था

देश वही है परिवेश बदला है
चुनौती नई सामने खडी है

हे चाणक्य चले आओ
वर्तमान के चन्द्र गुप्त को राह दिखाने को
एक नव भारत के निमित्त तुम्हे
आना होगा
फिर से कसम खाना होगा
फिर किसी साधारण को
असाधारण बना होगा
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज )

1 Like · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
!! प्रार्थना !!
!! प्रार्थना !!
Chunnu Lal Gupta
पता नहीं कुछ लोगों को
पता नहीं कुछ लोगों को
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
'व्यथित मानवता'
'व्यथित मानवता'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
*शरीर : आठ दोहे*
*शरीर : आठ दोहे*
Ravi Prakash
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
श्याम सिंह बिष्ट
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
Shekhar Chandra Mitra
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
Loading...