Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 11, 2022 · 2 min read

हे गुरू।

शब्द नही है मेरे पास ,हे गुरू!
कैसे करूँ आपका गुणगान,
कुछ छन्द पेश कर आपके चरणों में
करती हूँ मैं शत-शत बार प्रणाम।

आप दिया हो मैं बाती हूँ,
आप जलाते है तो जलती हूँ।
हे गुरू ! आपने मुझे ज्ञान
रूपी आधार प्रदान कर मुझको है जलाया।
फिर उस ज्ञान रूपी प्रकाश से,
मैंने अपना नाम इस जग मे है बनाया।

आप माली हो, मैं फूल हूँ,
आप खिलाते हो,तो मैं खिलती हूँ।
ज्ञान रूपी पानी से सींचकर
हे गुरू ! आपने मुझको खिलाया,
तब जाके मैंने अपनी जीवन
मे ज्ञान की खूशबू है फैलाया।

मैं माटी का कच्चा घड़ा था।
जिसको आपने ज्ञान से तपाया,
फिर जाके मैंने अपने को
पानी भरने लायक बनाया।

मैं थी एक साधारण पत्थर,
जिसका न था कोई मोल
हे गुरू! आपने जिसे तराश कर,
बना दिया उसको अनमोल।

मैं थी एक भटकती धारा।
जिसका न था कोई राह,
आपने जिसे राह दिखाकर
ज्ञान के भवसागर से मिलाया,
फिर जाके मैंने अपना
एक नया पहचान बनाया।

मैं अमावस्या का चाँद था।
जिसके जीवन में था अँधेरा,
आपने ज्ञान प्रकाश देकर
दूर किया मेरा अँधियारा ।
फिर जाके मैंने अपने को
पूर्ण चाँद है बनाया।
और इस चाँदनी को,
पूरे जग में बिखेर पाया।

मैं था समुद्र का भटका नाविक।
जिसको दिशा का न था ज्ञान ।
आपने धुव्र तारा बनकर ,
मुझे दिशा का ज्ञान दिया,
तब जाके मैंने जीवन रूपी
नाव को,
सही दिशा में ले जा पाया।

इस तरह करके, हे गुरू!
कई बार आपने मुझे राह दिखाया,
और मेरे इस जीवन को हे गुरू !
आपने ज्ञान देकर सफल बनाया।

~अनामिका

2 Likes · 81 Views
You may also like:
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मनमीत मेरे
Dr.sima
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
✍️वास्तविकता✍️
"अशांत" शेखर
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
तरबूज का हाल
श्री रमण
मेरी हस्ती
Anamika Singh
पिता
Raju Gajbhiye
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
फ़ासला
मनोज कर्ण
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...