Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 2 min read

हे गुरू।

शब्द नही है मेरे पास ,हे गुरू!
कैसे करूँ आपका गुणगान,
कुछ छन्द पेश कर आपके चरणों में
करती हूँ मैं शत-शत बार प्रणाम।

आप दिया हो मैं बाती हूँ,
आप जलाते है तो जलती हूँ।
हे गुरू ! आपने मुझे ज्ञान
रूपी आधार प्रदान कर मुझको है जलाया।
फिर उस ज्ञान रूपी प्रकाश से,
मैंने अपना नाम इस जग मे है बनाया।

आप माली हो, मैं फूल हूँ,
आप खिलाते हो,तो मैं खिलती हूँ।
ज्ञान रूपी पानी से सींचकर
हे गुरू ! आपने मुझको खिलाया,
तब जाके मैंने अपनी जीवन
मे ज्ञान की खूशबू है फैलाया।

मैं माटी का कच्चा घड़ा था।
जिसको आपने ज्ञान से तपाया,
फिर जाके मैंने अपने को
पानी भरने लायक बनाया।

मैं थी एक साधारण पत्थर,
जिसका न था कोई मोल
हे गुरू! आपने जिसे तराश कर,
बना दिया उसको अनमोल।

मैं थी एक भटकती धारा।
जिसका न था कोई राह,
आपने जिसे राह दिखाकर
ज्ञान के भवसागर से मिलाया,
फिर जाके मैंने अपना
एक नया पहचान बनाया।

मैं अमावस्या का चाँद था।
जिसके जीवन में था अँधेरा,
आपने ज्ञान प्रकाश देकर
दूर किया मेरा अँधियारा ।
फिर जाके मैंने अपने को
पूर्ण चाँद है बनाया।
और इस चाँदनी को,
पूरे जग में बिखेर पाया।

मैं था समुद्र का भटका नाविक।
जिसको दिशा का न था ज्ञान ।
आपने धुव्र तारा बनकर ,
मुझे दिशा का ज्ञान दिया,
तब जाके मैंने जीवन रूपी
नाव को,
सही दिशा में ले जा पाया।

इस तरह करके, हे गुरू!
कई बार आपने मुझे राह दिखाया,
और मेरे इस जीवन को हे गुरू !
आपने ज्ञान देकर सफल बनाया।

~अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3222.*पूर्णिका*
3222.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
मदमस्त
मदमस्त "नीरो"
*प्रणय प्रभात*
"सरल गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
*जख्मी मुस्कुराहटें*
*जख्मी मुस्कुराहटें*
Krishna Manshi
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
#भूली बिसरी यादे
#भूली बिसरी यादे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
जीत जुनून से तय होती है।
जीत जुनून से तय होती है।
Rj Anand Prajapati
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
Sûrëkhâ
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
प्रयत्नशील
प्रयत्नशील
Shashi Mahajan
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
I was happy
I was happy
VINOD CHAUHAN
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...