Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 2 min read

हे ईश्वर!

हे ईश्वर!इतना भी दर्द न दो
कि हमें सहना मुश्किल हो जाए
और हम तुम्हारे सामने घुटनों के
बल बैठना ही भुल जाएँ।

माना कि तुम हो अन्तर्यामी
और मैं हूँ इस धरती का अज्ञानी ।
तुम्हारी परीक्षा लेने की फितरत है
और हमें परीक्षा देने की आदत।

तुम जो भी करते हो
सोच-समझ कर करते हो,
और मै नादान कहाँ तेरी
हर खेल समझ पाती हूँ।

इसीलिए तो कोई भी समस्या
का हल निकालने के लिए ,
तेरे पास दौड़ी -दौड़ी चली आती हूँ।
तुझसे मदद की गुहार लगाती हूँ।

मुझे पता है कि यह समस्या भी
तेरा ही भेजा हुआ है।
इसलिए तुम ही से इस समस्या,
के समाधान के लिए अर्ज लगाती हूँ।

तेरे चरणो में घुटने के बल बैठकर ,
तेरे आगे हर समय मैं झोली फैलाती हूँ।
मुझे जो तुमने दिया उसकी शिकायत
न है मुझे।

मुझे शिकायत है इस बात से कि
आज जब इन्सान, इन्सान का खून
बहा रहा है।
कही युद्ध तो कही दंगा छिड़ते जा रहा है।
कहीं धर्म के नाम पर भाई-भाई में
महाभारत छिड़ते जा रहा है।

यह सब देखकर भी तुम क्यों मौन साध रखे हो।
क्यों उन सब को एक-दूसरे का खून बहाने दे रहे हो।
क्यों न तुम आकर बता रहे हो ,
कि सब तुम्हारा ही रुप है।

इस धरती के हर एक कण में तुम रहते हो।
क्यों नही एकबार धरती आकर
हमलोगों को समझाते हो।
क्यों न तुम आकर डाँट लगाते हो ,

क्यों न आकर कहते हो कि,
जाति,मजहब, धर्म के नाम पर न लड़ों,
क्यों इंसान को हैवान बनने दे रहे हो,
क्यों न इन सब को रोक रहे हो।
आज जब बेगुनाहो का खून
बह रहा है।

जब स्त्रियों का शोषण हो रहा हैं,
इनका चीरहरण हो रहा है।
कई बच्चे अनाथ हो गये हैं,
कई भुख से तड़प रहे हैं।
यह सब देखकर भी तुम
क्यों नही आ रहे हो,

मेरी यह विनती है ईश्वर,
हम लोगो के विश्वास को
डगमगाने से पहले और
इंसान को हैवान बनने से पहले
तुम इस धरती पर अवतार लेकर
हम सब को बचा लो।

हम सब को तुम अपना रूप दिखा दो
हम सब का विश्वास तुम पर बना रहे
और तुम्हारा डर हम सबको लगा रहे।
ऐसा कुछ तो चमत्कार करो हे ईश्वर!

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 1057 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-188💐
💐प्रेम कौतुक-188💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
नशा
नशा
Mamta Rani
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
Ravi Prakash
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम
प्रेम
Dr. Shailendra Kumar Gupta
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
■ मिली-जुली ग़ज़ल
■ मिली-जुली ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...