हुस्न कोई गर न टकराता कभी

तू बता मेरी तरफ देखा कभी
और देखा तो बुलाया क्या कभी

चाहेगा जब पास अपने पाएगा
क्या मुझे है ढूढना पड़ता कभी

तू नहीं करता परीशाँ गर मुझे
तो कहाँ होता कोई अपना कभी

ख़ाक बढ़ता प्यार का यह सिलसिला
हुस्न कोई गर न टकराता कभी

तिश्नगी, सैलाब मैंने एक साथ
आँख में अपने ही देखा था कभी

काश! जानिब से तेरी आती सदा
यूँ के ग़ाफ़िल अब यहाँ आजा कभी

-‘ग़ाफ़िल’

114 Views
You may also like:
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
पिता
Saraswati Bajpai
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
साथी संग तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...