Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

हुनर से गद्दारी

हुनर से गद्दारी ”

सख्त रवैया आज अपनो का देख,
मन मेरा खामोशी में खो गया
रख इरादा आज सपनों का ,
आज पागल पन की पगडंडी पर सो गया।
आलम आज सवार है मुझ पर ,हुनर से गद्दारी का||
चपल चंचलता आज चापलूसी की
ना जाने कैसे दिवानी हो गयी।
चाहत पर चोकसी रख खामोशी से
आज यह मन खोखला हो गया |
आलम आज सवार है हुनर से गद्दारी का मुझ पर
शरण में आकर आज मां-बाप की
क्यो उनका मन दुखा रहा ।
वरण में कर सोभाग्य का आज
आप का क्यो मन दुखा रहा |
आलम आज हुनर से सवार का मुझ पर गद्दारी का ||
आया भार आज मन पर
मेरे आवारा बन घुम रहा
ना लाया सार आज मन पर
ऐसे पर निर्भरता से जुम रहा ।
आलम आज सवार है मुझ पर ,हुनर से गद्दारी का||
छाप मन में ऐसी छायी
शान्त चिन्त में खोने की
श्राप बनी आज पढाई मेरी
भीख में कटोरा लाने की
आलम आज सवार है मुझ पर हुनर से गद्दारी का
छोटी-मोटी कर कमाई
मानो टूटी उम्मीद को अब जगाई
नशा पढाई का भुत बनकर
दिलो दिमाग में क्या कर रहा अब तराई
आलम आज सवार है मुझ पर हुनर से गद्दारी का

Language: Hindi
25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
Loading...