Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2017 · 1 min read

हुडदंग ह़ोली की

साहित्यपीडिया परिवार को ,
होली की शुभकामना।
साहित्य संग्रह कर इतिहास रचा,
कर चुनौतियों का सामना।
रंग बिरंगी कविताओं को,
आश्रय दिया गया है।
अनगढ़ रचनाकारो को भी,
श्रैष्ट कवियों मे चुना है।
कलम रूपी पिचकारी से,
कविता को लगा रहें कालिख,
रंगीले कवियों की टोली,
न कोई मूर्ख न कोई लायक।
है जो हिन्दी में कच्चे,
पढ़ नहीं पाते क्या लिखा,
शरमाती कविता को,
उन्हीं का रहा रंग चोखा।
वेटी पर लिखने साहित्य,
हजारो हाथ मचल गये।
होली की हुडदंग जैसी,
फुहड रचनायें भर गये।
व्हूज पाने बना बना टोली,
अंको को खूव बढा़या।
नालायक से लायक करने,
पीडिया को भी खूब छकाया।
जो वने श्रेष्ट पुरुष्कार मिला,
उन्हें बहुत बहुत बधाई।
जो छूट गये लिखते चले,
होली आयी है होली आयी।
अब बचा नही कोई सा रंग,
तोडी सारी लाज शरम।
होली पर और क्या कहें,
सारे कवि है वेशरम।

Language: Hindi
368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajesh Kumar Kaurav
View all
You may also like:
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
ज़िंदगी कब उदास करती है
ज़िंदगी कब उदास करती है
Dr fauzia Naseem shad
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
पूर्वार्थ
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
है पत्रकारिता दिवस,
है पत्रकारिता दिवस,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
"जब मिला उजाला अपनाया
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
संयम
संयम
RAKESH RAKESH
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ਦਿਲ  ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ  ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
ਦਿਲ ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
Surinder blackpen
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
💐प्रेम कौतुक-473💐
💐प्रेम कौतुक-473💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
Loading...