Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे

हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद भी होंगे
मोहोब्बत की नहीं फिर भी किसी को याद भी होंगे
जुटे सालों से महनत में बो महनत आज भी कायम
किसी की कैद में हैं आज कल आजाद भी होंगे

कलम से
आनंद के ऐस

Language: Hindi
469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त
वक्त
Dinesh Kumar Gangwar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जन्मदिन के मौक़े पिता की याद में 😥
जन्मदिन के मौक़े पिता की याद में 😥
Neelofar Khan
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
राम की मंत्री परिषद
राम की मंत्री परिषद
Shashi Mahajan
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
sudhir kumar
2680.*पूर्णिका*
2680.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर प्रफुल्ल पटेल
अगर प्रफुल्ल पटेल
*प्रणय प्रभात*
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
Ravi Prakash
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
हृदय पुकारे आ रे आ रे , रो रो बुलाती मेघ मल्हारें
हृदय पुकारे आ रे आ रे , रो रो बुलाती मेघ मल्हारें
Dr.Pratibha Prakash
उम्मीदें रखना छोड़ दें
उम्मीदें रखना छोड़ दें
Meera Thakur
"किसी के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर एक सांस सिर्फ़ तेरी यादें ताज़ा करती है,
हर एक सांस सिर्फ़ तेरी यादें ताज़ा करती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
Dhirendra Singh
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
यूँ तैश में जो फूल तोड़ के गया है दूर तू
यूँ तैश में जो फूल तोड़ के गया है दूर तू
Meenakshi Masoom
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
Loading...