Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

हिरनी जैसी जब चले ,

हिरनी जैसी जब चले ,
युवा षोडशी चाल ।
आशिक भौंरे दिलजले,
डालें अपना जाल ।।

सुशील सरना / 18-3-24

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
शेर
शेर
Monika Verma
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
दीवार में दरार
दीवार में दरार
VINOD CHAUHAN
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
My City
My City
Aman Kumar Holy
"डर"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
सब बढ़िया
सब बढ़िया
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...