Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 2 min read

हिन्दू जागरण गीत

हिन्दू जागरण गीत
~~°~~°~~°
उठो हिन्दू ,जगो हिन्दू ,
नहीं तो फिर मिटो हिन्दू।
कर्म अपना तुम भूलो मत,
पढो़ गीता कहो हिन्दू।

रामायण की वो मर्यादा,
जनजीवन में रहे ज्यादा,
महाभारत की कर्मनिष्ठा,
चतुर्वेदों की हो धर्मनिष्ठा।
बालक ध्रुव सा दृढ़ माथा ,
भक्त प्रह्लाद की वो गाथा ,
तुम अपनों से कहो हिन्दू ,
नहीं तो फिर,मिटो हिन्दू।
पढ़ो हिन्दू,रहो हिन्दू ,
नहीं तो फिर मिटो हिन्दू।
कर्म अपना तुम भूलो मत,
पढो़ गीता कहो हिन्दू…

देखा है सदियों तक,
गुलामी को यहाँ तुमने,
जीते थे यूँ घुट-घुट कर,
कफन बांधे यहाँ तुमने।
चाहे वो तुर्क हो मंगोल हो,
या ईरान दस्यु हो,
वो कहते थे हमें कायर,
एकता कभी न सीखा हमने।
हमें छाँटा था रियासत से,
हमें बाँटा फिर वो सियासत मे,
समझोगे कब इसे हिन्दू ,
आपस में मत लड़ो हिन्दू…

उठो हिन्दू,जगो हिन्दू ,
नहीं तो फिर,मिटो हिन्दू।
कर्म अपना तुम भूलो मत,
पढो़ गीता कहो हिन्दू।

हर माथे पर हो तिलक चंदन,
लगे जैसे तुम रघुनन्दन,
तुणीर बाणों से न हो खाली,
हर कंधा सुसज्जित हो।
हर नारी हो यहाँ विदुशा,
यदि जरूरत पड़े करे अग्निवर्षा।
खड्ग की धार सदा चमके,
कभी न मंद कुंठित हो।
करने संहार असुरों का,
महर्षि दधीचि सा तुम बनो हिन्दू।
उठो हिन्दू जगो हिन्दू,
अब सोओ मत उठो हिन्दू…

उठो हिन्दू,जगो हिन्दू ,
नहीं तो फिर,मिटो हिन्दू।
कर्म अपना तुम भूलो मत,
पढो़ गीता कहो हिन्दू।

मौलिक और स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०९/०७ /२०२३
श्रावण , कृष्ण पक्ष , सप्तमी ,रविवार
विक्रम संवत २०८०
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
4 Likes · 850 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
2457.पूर्णिका
2457.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"वेश्या का धर्म"
Ekta chitrangini
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
💐अज्ञात के प्रति-62💐
💐अज्ञात के प्रति-62💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
आसमां पर घर बनाया है किसी ने।
आसमां पर घर बनाया है किसी ने।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
Manu Vashistha
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं धरा सी
मैं धरा सी
Surinder blackpen
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
सत्य कुमार प्रेमी
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
Loading...