Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2022 · 1 min read

“” हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” “

“” हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” ”

हाय, हैलो, गुड मॉर्निंग और बाय

ये नहीं हैं हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार,

हाथ जोड़कर बोलो रामराम सबको

बड़े बुजुर्गों को करो सादर नमस्कार,

मोम बना दिया माताजी को अंग्रेजी ने

जीते जी पूजनीय पिताजी को डैड,

चाची, ताई सारी आंटी बन गयी

रस्सी की खाट बन गया बैड,

पैर पसार लिए अंग्रेजी ने

हमारे अपरिपक्व दिमाक पर

उनतीस, उनचालीस लगें एक जैसे

इनमें फर्क नजर नहीं आता,

दादाजी हो चाहे हो नानाजी

दोनों बना दिये ग्रांडफादर

ताऊ, चाचा मामा हो या फूफा

सबको बस अंकल कह जाता,

खिलौने और उपहारों का भी

हमने रख दिया अंग्रेजी नाम

तभी तो आज दब गया

हमारी मातृभाषा हिन्दी का गुमान,

पृथक-पृथक हिंदुस्तानी जब

हिन्दी के लिए कसेगा कमान

अंग्रेजी को हराकर चोटी पर

विराजेगी तब हिन्दी महान।

Language: Hindi
2 Likes · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
सज़ल
सज़ल
Mahendra Narayan
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
3242.*पूर्णिका*
3242.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
पूर्वार्थ
*मर्यादा*
*मर्यादा*
Harminder Kaur
गाली भी बुरी नहीं,
गाली भी बुरी नहीं,
*प्रणय प्रभात*
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
हाइकु (#हिन्दी)
हाइकु (#हिन्दी)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...