Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

हिन्दी पर हाइकू …..

हिन्दी पर हाइकू …..

हिन्दी में बात
अग्रेजी अनुवाद
वक्त बर्बाद

अपनी हिंदी
हिन्दुस्तान का ताज
विश्व को नाज

अपनी भाषा
पर भाषा से प्यारी
अंग्रेजी हारी

सुशील सरना /

1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
The News of Global Nation
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
मैं जिन्दगी में
मैं जिन्दगी में
Swami Ganganiya
मेले
मेले
Punam Pande
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
"ज़हन के पास हो कर भी जो दिल से दूर होते हैं।
*प्रणय प्रभात*
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
तक़दीर शून्य का जखीरा है
तक़दीर शून्य का जखीरा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
"जीवन का आनन्द"
Dr. Kishan tandon kranti
3023.*पूर्णिका*
3023.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज फ़िर एक
आज फ़िर एक
हिमांशु Kulshrestha
नींद
नींद
Kanchan Khanna
ग़ज़ल(ये शाम धूप के ढलने के बाद आई है)
ग़ज़ल(ये शाम धूप के ढलने के बाद आई है)
डॉक्टर रागिनी
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
मासी की बेटियां
मासी की बेटियां
Adha Deshwal
Loading...