Oct 6, 2016 · 1 min read

हिन्दी दिवस : दोहे

हिन्दी में धड़के हृदय, हों जब नैना चार.
‘आई लव यू’ छोड़कर, हिन्दी में हो प्यार..

‘स्वीटी’ ‘डार्लिंग’ ‘कर्णप्रिय’, अप्रिय बहनजी शब्द.
‘मैडम’ ‘मिस’ मन मोहते, ‘अम्बरीष’ निःशब्द..

डैडी जी हैं ‘डैड’ अब, मम्मी जी भी ‘मॉम’.
सिस्टर ‘सिस’ ‘ब्रो’ अब ब्रदर, पी अंग्रेजी जाम..

‘आई लव यू’ हो गया, ‘ईलू’ दुनिया दंग.
संबोधन छोटे हुए, ज्यों हों कपड़े तंग..

‘हेलो-हेलो’ था बोलता, प्रतिक्षण आठों याम.
‘ग्राहम बेल’ की प्रेमिका, ‘हेलो’ उसी का नाम..

‘हेलो-हेलो’ को बंद कर, करिए ऐसी युक्ति.
ग्राहम-हेलो को मिले, प्रेतयोनि से मुक्ति..

‘हेलो’ बने हरिओम अब, ॐ कहें यदि ‘हाय’.
‘बाय-बाय’ को छोड़कर, बोलें ‘नमः शिवाय’..

आया जब हिंदी-दिवस, उमड़ा तब है प्यार.
नित्य मनाते हम इसे, दिन में बीसों बार..

हिन्दी-हिन्दी जप रहे, भाषा करे प्रयाण.
रोजगार से जोड़िये, होगा तब कल्याण..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

(नोट: टेलीफोन के आविष्कारक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल की प्रेमिका का पूरा नाम जेनिफर-हेलो था)

1323 Views
You may also like:
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ईद"
Lohit Tamta
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लाल टोपी
मनोज कर्ण
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर रोज योग करो
Krishan Singh
वार्तालाप….
Piyush Goel
Loading...