Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

हिदायत

है सिफत यह हासिल हमको,कौम के काम आए!
न किसी से कोई गिला रखै, न किसी को सताए!!
साथ मेरे क्या जाएगा ,है इसका अहसास मुझको?
फिर क्यू मुबतिला, देकर धोखा औरो को, कमाए?
क्या साथ लेकर उसको जाएगा जो कुछ कमाया?
जब नही साथ जाएगा ,तो क्यू बदनियती कमाए?
साथ तेरी इन्सानियत,मुहब्बत और खुलूस जाएगा!
कान्धा तो कोई देगा,पर प्यार सारे जहा का पाएगा!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं फेस -2 सिकंदरा,आगरा-282007
मो:9412443093

Language: Hindi
1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-547💐
💐प्रेम कौतुक-547💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Hello
Hello
Yash mehra
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
*Author प्रणय प्रभात*
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
मैंने  देखा  ख्वाब में  दूर  से  एक  चांद  निकलता  हुआ
मैंने देखा ख्वाब में दूर से एक चांद निकलता हुआ
shabina. Naaz
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
Ranjeet kumar patre
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
वक्त
वक्त
लक्ष्मी सिंह
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
Loading...