Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

हिंदी

जन-जन का इससे सरोकार पहचान हमारी हिंदी है
जिसपे सबको नाज है हिंदी भारत माँ की बिंदी है

भारत ऐसा देश हमारा हम सबका यह प्यारा है
मातृभाषा है हिंदी हमारी जन-जन की यह भाषा है

हिन्दी से है हिन्दुस्तान जो है देशवासियों की शान
हिन्दी है वह भाषा जो मन में बसाता है पहचान

हिंदी से हो हिंदुस्तान जन-जन की अभिलाषा है
हिंदी हमारी भाषा है भारत की यह परिभाषा है

सभ्यता हमारी हिंदी ,हिंदी हमारा संस्कार भी है
भारतवासी के दिल में बसे हमारा व्यवहार भी है।

Mamta Rani

3 Likes · 446 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
The greatest luck generator - show up
The greatest luck generator - show up
पूर्वार्थ
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
इंजी. संजय श्रीवास्तव
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
देख कर
देख कर
Santosh Shrivastava
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कितने आसान थे सम्झने में
कितने आसान थे सम्झने में
Dr fauzia Naseem shad
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#हिन्दुस्तान
#हिन्दुस्तान
*प्रणय प्रभात*
खुद को खुली एक किताब कर
खुद को खुली एक किताब कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
Loading...