Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

हिंदी दिवस – विषय – दवा

हिंदी दिवस – विषय – दवा

मीठे वचनों की दवा , असरदार ‌ परिणाम |
अजमाकर #राना कहे , शिकवे मिटे तमाम ||

वैद्य वचन भी है दवा , धीरज के दो बोल |
चढ़े ताप #राना लगें , रोगी को अनमोल ||

प्रात सेव फल खाइये , #राना का ‌संज्ञान |
वैद्य सभी कहते यहाँ , दवा एक यह मान ||

कफ जिसका अंदर जमा , दवा न खोजो आप |
#राना घर में लीजिए , अजवाइन की भाप ||

दही छाछ होती दवा , #राना पीकर देख |
पेट साफ हरदम रहे , सदा ओज को लेख ||

तुलसी दल घर में दवा , बहती नाक जुखाम |
रगड़ों तुम फिर सूँघना, #राना तब आराम ||
***

✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
प्रकृति ने
प्रकृति ने
Dr. Kishan tandon kranti
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Sahityapedia
Sahityapedia
भरत कुमार सोलंकी
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
Manoj Mahato
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
.
.
Ragini Kumari
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
Loading...