Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हास्य कविता – फूट गयी फूट गयी

एकवार हम बड़े मन से गये बारात ,
लड़की वालों के यहाँ पहुँचने में हो गयी थी रात ।।
लड़की वालों ने हमें देख तुरन्त दी दावत
भूखे लोग ऐसे टूटे जैसे आगयी हो आफत।।
किसी ने सफेद रसगुल्लों में सफेद पत्थर था मिलाया ,
सौभाग्य से वह हमारे हिस्से आया ।।
झट से उसे हमने अपने मुख रक्खा,
परंतु तोड़ने में वो बड़ा था पक्का ।।
वार- वार तोड़ने में हमने बड़ा जोर लगाया ,
बड़ी कोशिश करने पर भी न गया चबाया।।
पत्थर समझ हमने अपने पीछे फेंका ,
और उसे हमने मुडकर तक नहीं देखा ।
इत्तिफाक से वो एक गंजे के सिर से टकराया,
बेचारे गंजे ने एक बड़ा झटका खाया।।
जोर से वह चिल्लाया फूट गयी फूट गयी
हम बोले कि हमसे तो टूटी तक न थी तुमसे फूट गयी ।।
गुस्सा हो उसने भी जोर से उसे मारा ,
एक भूखा बड़े ध्यान से खा रहा था बेचारा ।।
उसने उस पत्थर से मुँह पर बड़ी चोट खायी,
आधा खाना मुख में था आधा वाहर था भाई ।।
सज धज के आया था बन के वह सिकन्दर ,
मुँह उसका सजाकरके बना दिया था बन्दर ।।
ऐसी मारा मारी में छुपने को हमने मेज के नीचे निहारा ,
इतने में किसी ने हमारी आँख में पत्थर दे मारा ।।
हमने चिल्लाकर कहा फूट गयी फूट गयी
एक बोला किसी से टूटी तक न थी तुमसे फूट गयी ।।
अपनी एक आँख पकड़कर हम रो रहे थे भाई ,
ऐसी वारात में हमारी शामत खींच लाई।
है मेरी नशीहत भइया कबहुं न जइयो वारात,
बिना दोष के कभी न खइयो थप्पड़ घूँसा लात ।।
डाँ0 तेज़ स्वरूप भारद्वाज

2 Comments · 1089 Views
You may also like:
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
पिता
Aruna Dogra Sharma
मांडवी
Madhu Sethi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Apology
Mahesh Ojha
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
Loading...