Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*

हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)
___________________________
हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार
पत्नी जी को खुश किया, मधुर तीज-त्यौहार
मधुर तीज-त्यौहार, हार पा पत्नी फूली
सखियों के फिर संग, तीज का झूला झूली
कहते रवि कविराय, वर्षभर फिर पति प्यारा
इसे कहेंगे जीत, चतुर पति तनिक न हारा
__________________________
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
माँ दहलीज के पार🙏
माँ दहलीज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
"परखना "
Yogendra Chaturwedi
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
तुम रट गये  जुबां पे,
तुम रट गये जुबां पे,
Satish Srijan
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दहन
दहन
Shyam Sundar Subramanian
यादो की चिलमन
यादो की चिलमन
Sandeep Pande
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
Dr MusafiR BaithA
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बुद्ध या विनाश
बुद्ध या विनाश
Shekhar Chandra Mitra
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
Jeevan Ka saar
Jeevan Ka saar
Tushar Jagawat
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
Loading...