Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

हारना नहीं सीखा

चखे हैं जीवन के स्वाद सभी
कोई फीका है कोई तीखा

सबके मेल से बनता अनुभव
मोल है बहुत सभी का

अनुभव से ही सीखा ना मिले जीत हरदम
हमेशा रहे ना नसीब चमकता किसी का

दोस्तों

हार कर सीखा है मैंने
पर हारना नहीं सीखा

Language: Hindi
1 Like · 2569 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr ShivAditya Sharma
View all
You may also like:
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
अनवरत का सच
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
आरंभ
आरंभ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
"पंखों वाला घोड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
वक़्त के साथ वो
वक़्त के साथ वो
Dr fauzia Naseem shad
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
मत भूल खुद को!
मत भूल खुद को!
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
Shekhar Chandra Mitra
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ लीक से हट कर.....
■ लीक से हट कर.....
*Author प्रणय प्रभात*
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
Ravi Prakash
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
Loading...