Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

हारना नहीं सीखा

चखे हैं जीवन के स्वाद सभी
कोई फीका है कोई तीखा

सबके मेल से बनता अनुभव
मोल है बहुत सभी का

अनुभव से ही सीखा ना मिले जीत हरदम
हमेशा रहे ना नसीब चमकता किसी का

दोस्तों

हार कर सीखा है मैंने
पर हारना नहीं सीखा

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2297 Views
You may also like:
💐संसारे कः अपि स्व न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या यही ज़िंदगी है?
Shekhar Chandra Mitra
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पहली दफा
जय लगन कुमार हैप्पी
✍️कोरोना✍️
'अशांत' शेखर
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
ख्वाबों को हकीकत में बदल दिया
कवि दीपक बवेजा
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
शाम सुहानी सावन की
लक्ष्मी सिंह
यशोदा का नंदलाल बांसूरी वाला
VINOD KUMAR CHAUHAN
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
औरत तेरी यही कहानी
विजय कुमार अग्रवाल
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
सावन
Sushil chauhan
वो_हमे_हम उन्हें_ याद _आते _रहेंगे
कृष्णकांत गुर्जर
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बच्चों के लिए
shabina. Naaz
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
चंदा करवाचौथ का( गीत )
Ravi Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
परख किसको है यहां
Seema 'Tu hai na'
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
दौलत बड़ी या मां का दुलार !
ओनिका सेतिया 'अनु '
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...