Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

हां यही सरकार है

आदमी लाचार है
चल रही सरकार है

नाट्यशाला का मुखर
सिरफिरा किरदार है

भक्त है वो देश का
दूसरा गद्दार है

बात कुछ होगी सुनो
बोलता दमदार है

संत हैं वो सब के सब
और सब बेकार है

आजकल मंदा नही
तेज कारोबार है

सातवां वेतन है या
गुप्त इक तलवार है

स्तब्ध है सारा जहां
ये कौन सी सरकार है

हम समझ पाये नही
ये समझ के पार है

3 Comments · 184 Views
You may also like:
मुहब्बत
Buddha Prakash
आम आदमी का शायर
Shekhar Chandra Mitra
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
शेर
Rajiv Vishal
हिम्मत से हौसलों की, वो उड़ान बन गया।
Manisha Manjari
नव भारत
पाण्डेय चिदानन्द
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
खेल दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी आत्मबोध
यतींम
shabina. Naaz
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
हौसला खुद को
Dr fauzia Naseem shad
कलम
Sushil chauhan
चल उसमें बनके चिराग जलते है।
Taj Mohammad
■ सुझाव / समय की मांग
*प्रणय प्रभात*
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Sahityapedia
कर तु सलाम वीरो को
Swami Ganganiya
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
*पुस्तक/ पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आजकल के अपने
Anamika Singh
Loading...