Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

हाँ ये सच है

हाँ ये सच है,
तुम मिले थे कभी
गर्मी में झुलसी देह को
शाम की पुरवा हवा सा
जैसे हवा को बाँध नहीं सकते
सदा के लिए
तुम्हें भी रोक नहीं पाए ।
किन्तु तुम्हारा मिलना
उतना ही सच है
जितना सूरज का उगना
रात में चाँद का खिलना
झूठ नहीं था वो अपनापन
वो अहसास
बस समय ने चाँद और सूरज की तरह
छिपा दिया हमारे रिश्ते को
कर्तव्यों जिम्मेदारियों की आड़ में
किन्तु मेरे हृदय में
तुम्हारा उन्मेष
सदा के लिए बस गया।
मैं खुश हूँ कि कभी तो
किसी ने मुझे पूरा समझा था
जिसके साथ बीते पलों में
मुझे मेरी ज़िन्दगी मिली थी।

Language: Hindi
1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
ज़िंदगी ने कहां
ज़िंदगी ने कहां
Dr fauzia Naseem shad
■ सकारात्मकता...
■ सकारात्मकता...
*प्रणय प्रभात*
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
gurudeenverma198
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
Neelofar Khan
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
VINOD CHAUHAN
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
क्या वायदे क्या इरादे ,
क्या वायदे क्या इरादे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
Loading...