Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

हर ग़म पी के मुस्कुरा/ग़ज़ल

तड़प के जी ले मगर बेवफ़ा को मुकद्दर न बना |
हर ग़म पी के मुस्कुरा दिल को पत्थर न बना |

निगाहें शौक से किसी को अब देखा न कर |
कोरे दिल में किसी का फ़िर से तस्वीर न बना |

माना जीवन का डगर है कठिन उनके बिन यहाँ |
न रह गुमशुम ए दिल ग़म को हमसफ़र न बना |

दिखा उसे अमिट है प्यार का बंधन जहा में |
ज़िंदगी है प्रेम की नदी इसे तू ज़हर न बना |

ये दिल तेरे साथ जो कुछ हुआ उसे भूल भी जा |
फूलों की राह है उसे कांटो की डगर न बना |

तूने देख लिया क्या मिला उस बेवफ़ा के प्यार से |
जहाँ न हो कोई अपना उसे ज़िंदगी का शहर न बना |

198 Views
You may also like:
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रंगोली (कुंडलिया )
Ravi Prakash
“STAY WITHIN THE SCOPE OF FRIENDSHIP, DO NOT ENCROACH”
DrLakshman Jha Parimal
The broken sad all green leaves.
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
नाशुक्रा
Satish Srijan
■ हिंदी ग़ज़ल / वर्तमान
*Author प्रणय प्रभात*
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
तेरी जिन्दगानी तो
gurudeenverma198
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आख़िरी मुलाक़ात
N.ksahu0007@writer
'खिदमत'
Godambari Negi
हम और हमारे 'सपने'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
✍️मंज़िल की चाहत ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बिहार छात्र
Utkarsh Dubey “Kokil”
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज्ञान के प्रकाश सी सुबोध मातृभाष री।
Neelam Sharma
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
वीर
लक्ष्मी सिंह
सिंदूर की एक चुटकी
डी. के. निवातिया
तेरे बिन
Kamal Deependra Singh
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पहले प्यार का एहसास
Kaur Surinder
हाँ प्राण तुझे चलना होगा
Ashok deep
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
माँ भारती का अंश वंश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नौजवानों के लिए पैग़ाम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...