Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

हर ग़म पी के मुस्कुरा/ग़ज़ल

तड़प के जी ले मगर बेवफ़ा को मुकद्दर न बना |
हर ग़म पी के मुस्कुरा दिल को पत्थर न बना |

निगाहें शौक से किसी को अब देखा न कर |
कोरे दिल में किसी का फ़िर से तस्वीर न बना |

माना जीवन का डगर है कठिन उनके बिन यहाँ |
न रह गुमशुम ए दिल ग़म को हमसफ़र न बना |

दिखा उसे अमिट है प्यार का बंधन जहा में |
ज़िंदगी है प्रेम की नदी इसे तू ज़हर न बना |

ये दिल तेरे साथ जो कुछ हुआ उसे भूल भी जा |
फूलों की राह है उसे कांटो की डगर न बना |

तूने देख लिया क्या मिला उस बेवफ़ा के प्यार से |
जहाँ न हो कोई अपना उसे ज़िंदगी का शहर न बना |

286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
भगवान भी शर्मिन्दा है
भगवान भी शर्मिन्दा है
Juhi Grover
यादों के शहर में
यादों के शहर में
Madhu Shah
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
मतला
मतला
Anis Shah
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
Neelofar Khan
संवेदना सहज भाव है रखती ।
संवेदना सहज भाव है रखती ।
Buddha Prakash
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
■ आज का निवेदन...।।
■ आज का निवेदन...।।
*प्रणय प्रभात*
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
Loading...