Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

हर शब किसी चराग़ सा जलकर बडा हुआ

तन्हाईयों की गोद में पलकर बडा हुआ
बचपन से अपने आप सम्भलकर बडा हुआ
ग़ैरों को अपना मान के जीता रहा हूँ मैं
इस राह ऐ पुलसिरात पे चलकर बडा हुआ
मैंने कभी भी रात से शिकवा नहीं किया
हर शब किसी चराग़ सा जलकर बडा हुआ
पत्थर से कोई वास्ता मतलब न था मगर
हर आईने की आँख में खलकर बडा हुआ
मखमल की चादरों का मुझे क्या पता के मैं
काँटों के बिस्तरों को मसलकर बडा हुआ

नासिर राव

1 Comment · 655 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
.
.
*प्रणय प्रभात*
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
"सुनो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
इतनी सी बस दुआ है
इतनी सी बस दुआ है
Dr fauzia Naseem shad
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
VEDANTA PATEL
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
2342.पूर्णिका
2342.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
तन, मन, धन
तन, मन, धन
Sonam Puneet Dubey
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
Loading...