Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2018 · 1 min read

हर पल आगे बढ़ना सीखो…

हर पल आगे बढ़ना सीखो।
हर पल आगे बढ़ना सीखो।।

सच्चाई के बल पर जग में।
सदा बुलंदी चढ़ना सीखो।।

राह नहीं आसान है कोई।
हर मुश्किल से लड़ना सीखो।।

चट्टाने भी रस्ता देंगी।
शिलालेख यूं गढ़ना सीखो।।

तूफानों से आंख मिलाकर।
तुम लहरों से भिड़ना सीखो।।

विष भी अमृत हो जाएगा।
नीलकंठ सा जड़ना सीखो।।।

हर जिद पूरी हो जाएगी।
बस तुम जिद पर अड़ना सीखो।।

हर पल आगे बढ़ना सीखो।
हर पल आगे बढ़ना सीखो।।
–विपिन शर्मा

Language: Hindi
655 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
दरवाज़े
दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
.........???
.........???
शेखर सिंह
पुरवाई
पुरवाई
Seema Garg
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
****प्राणप्रिया****
****प्राणप्रिया****
Awadhesh Kumar Singh
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
नानखटाई( बाल कविता )
नानखटाई( बाल कविता )
Ravi Prakash
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
gurudeenverma198
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
Manisha Manjari
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ज़िंदगी से शिकायत
ज़िंदगी से शिकायत
Dr fauzia Naseem shad
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...