Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

हर परिवार है तंग

सूटकेस के चलन से घटी
टिन के बाक्स की मांग
तमाम कारीगरों के समक्ष
उत्पन्न हुई बेकारी बेलगाम
सूटकेस की तुलना में कई
गुना होती है बाक्स की उम्र
फिर भी लोगों ने उसे चुना
खुद को दिखाने को माडर्न
ठोस और किफायती चीजों
के प्रयोग से हो गया मोहभंग
बाजारु ताकतों के प्रचार से
बढ़े खर्चे, हर परिवार है तंग
अपव्यय की लक्ष्मण रेखा का
नहीं जिस समाज को ध्यान
उसका भला नहीं कर सकते
खुद परमात्मा कृपा निधान

Language: Hindi
1 Like · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन सीत मीत दिलवाली
मन सीत मीत दिलवाली
Seema gupta,Alwar
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
Rj Anand Prajapati
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
तुम मुझे दिल से
तुम मुझे दिल से
Dr fauzia Naseem shad
* जब लक्ष्य पर *
* जब लक्ष्य पर *
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-433💐
💐प्रेम कौतुक-433💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सरकार
सरकार "सीटों" से बनती है
*Author प्रणय प्रभात*
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
" तुम्हारे संग रहना है "
DrLakshman Jha Parimal
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
Loading...