Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

हर पति परमेश्वर नही होता

करम से हर जन जाना जाये
छोटा बड़ा सबको दिखलाये
एतबार उसका यूँ न खोता
हर पति परमेश्वर नही होता

किसी पथ पर न अबला रोती
डरी,सहमी न घायल होती
शरीर से रक्त न बहा होता
हर पति परमेश्वर नही होता

दहेज,लालच की बलि चढ़ जाये
सताई या फिर मारी जाये
दुख से आँचल भरा न होता
हर पति परमेश्वर नही होता

अपनों से वो धोखा खाये
बिलखकर भीतर रोती जाये
पीड़ा हाय ये निसदिन कैसी
नियति उसकी परिंदे जैसी

घायल परिंदे सी फड़फड़ाए
लहूलुहान हो सब सहती जाए
धैर्य सा यूँ ही नही खोता
हर पति परमेश्वर नही होता

परमेश्वर अब भले न बनना
मानव ही बनकर सदा रहना
दया,प्रेम उस पर दिखलाना
रमणी है कहीं भूल न जाना

सदगुणों का फिर मान करना
स्नेह के अब सुर्ख़ रंग भरना
परमेश्वर वही कहलाया
दया,प्रेम, जिसने दिखलाया।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

553 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धोखेबाजी का दौर है साहब
धोखेबाजी का दौर है साहब
Ranjeet kumar patre
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वार्थ
स्वार्थ
Neeraj Agarwal
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
Mahima shukla
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
Ravi Prakash
3638.💐 *पूर्णिका* 💐
3638.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
"इक ग़ज़ल इश्क़ के नाम करता हूँ"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
Shweta Soni
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Madhu Shah
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
खुद में भी एटीट्यूड होना जरूरी है साथियों
खुद में भी एटीट्यूड होना जरूरी है साथियों
शेखर सिंह
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
पूर्वार्थ
सपनों को दिल में लिए,
सपनों को दिल में लिए,
Yogendra Chaturwedi
विशाल अजगर बनकर
विशाल अजगर बनकर
Shravan singh
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
Loading...