Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग

वक़्त की अंगड़ाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग

आंख में आंसू हैं दिल में है कोई अपना
प्रेम की गहराइयों से लड़ रहे हैं लोग

कर गया है हर सहारा बेसहारा क्यों
ज़ीस्त की कठिनाइयों से लड़ रहे हैं लोग

गूंजती शहनाइयां भी दिल दुखाती हैं
गूंजती शहनाइयों से लड़ रहे हैं लोग

अपनी ही परछाइयों से अब शिकायत है
अपनी ही परछाइयों से लड़ रहे हैं लोग

–शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
3 Likes · 1243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या कभी तुमने कहा
क्या कभी तुमने कहा
gurudeenverma198
सुपारी
सुपारी
Dr. Kishan tandon kranti
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
फ़ासले जब भी
फ़ासले जब भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
23/215. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/215. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्रतिमा-स्थापना के बाद प्राण-प्रतिष्ठा" जितना आवश्यक है "कृ
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
Lokesh Sharma
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
Loading...