Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-28💐

हर जग़ह तुम मुझ में हो और मैं तुम में।
-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
107 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मेरा लेख
मेरा लेख
Ankita Patel
#हाँसो_र_मुस्कान
#हाँसो_र_मुस्कान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
umesh mehra
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
गर्दिश -ए- दौराँ
गर्दिश -ए- दौराँ
Shyam Sundar Subramanian
दुख से बचने का एक ही उपाय है
दुख से बचने का एक ही उपाय है
ruby kumari
कविता का जन्म
कविता का जन्म
Dr. Rajiv
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
Tarun Prasad
विरह
विरह
Neelam Sharma
💐प्रेम कौतुक-409💐
💐प्रेम कौतुक-409💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Nav Lekhika
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
बाधा को 'चल हट' कहता है,
बाधा को 'चल हट' कहता है,
Satish Srijan
ग़ज़ल - इश्क़ है
ग़ज़ल - इश्क़ है
Mahendra Narayan
The Little stars!
The Little stars!
Buddha Prakash
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...