Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,

हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
धरोहित जड़ों की तरफ मोड़ कर, उत्सव ने उल्लास मनाया है।
जीर्ण-शीर्ण पुरातन का त्याग कर, नित्य-नूतन वायु में छाया है,
ढोलक-मृदंग की तान साध कर, अपनों को फिर अपनाया है।
आसमां में गुलाल बिखेर कर, सकारात्मकता की ऊर्जा को पाया है,
जीवन की नीरसता को तोड़ कर, सरसता के वैविध्य को दर्शाया है।
विरह से भरे मन को मोह कर, प्रेम ने गीत रास-रंग का गाया है,
स्वर्णिम सूरज ने साक्षी बनकर, हर गीले-शिकवे को मिटाया है।
ऊंच-नीच की खाई पाट कर, एक हीं रंग में सबको भिंगोया है,
सौहार्द से अपनी झोली भरकर, स्नेह का प्रतीक कहलाया है।
होलिका की दुशाला भस्म कर, भक्त की भक्ति को बचाया है,
हरि ने स्वयं अवतरित होकर, दम्भित-दानव को हराया है।
इंद्रधनुषी रंगों ने उतर कर, धरती के आँचल को सजाया है,
वर्षभर की प्रतीक्षा को पार कर, दिन होली का लो मुस्काया है।

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
धारण कर सत् कोयल के गुण
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी से मत कहना
किसी से मत कहना
Dr.Pratibha Prakash
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*Author प्रणय प्रभात*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Maine anshan jari rakha
Maine anshan jari rakha
Sakshi Tripathi
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
*पहचान* – अहोभाग्य
*पहचान* – अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
Loading...