Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

हम हँसते-हँसते रो बैठे

हम हँसते-हँसते रो बैठे।।टेक।।
इन्द्र-धनुष सी छवि को देखा,
भरकर इन आँखों मेँ पानी,
मौन-निमंत्रण को पा कर के,
कर बैठा थोड़ी मन-मानी,
तुमको लख मैँ दिल खो बैठा,
जाने तुम किसके हो बैठे।
हम हँसते-हँसते रो बैठे।।1।।

दुःख जो मेरा समझ न पाए,
कैसे उसको व्यथा सुनाऊँ,
जीवन की दुर्गम-क्षण वाली,
कैसे उसको कथा सुनाऊँ,
निर्मोही की चाहत मेँ हम,
लाज-हया सब कुछ धो बैठे।
हम हँसते-हँसते रो बैठे।।2।।

जीवन की नैया डगमग है,
फिर भी उसको ठेल रहा हूँ,
आज मौत से आँख मिचौली,
बीच भँवर मेँ खेल रहा हूँ,
तुम बिन पल-पल तड़प रहा मन,
हाय! सनम तुमको खो बैठे।
हम हँसते-हँसते रो बैठे।।3।।

मुझको ठुकरा कर मत समझो,
नया काम तुम कर डाले हो,
मैँ तुम से अनजान नहीँ हूँ,
तुम मेरे देखे-भाले हो,
मेरे मन-मंदिर मेँ आ तुम,
जाने क्यूँ पत्थर हो बैठे।
हम हँसते-हँसते रो बैठे।।4।।

Language: Hindi
1 Like · 452 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
शादी ..... एक सोच
शादी ..... एक सोच
Neeraj Agarwal
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
Nowadays doing nothing is doing everything.
Nowadays doing nothing is doing everything.
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*** मां की यादें ***
*** मां की यादें ***
Chunnu Lal Gupta
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
💐प्रेम कौतुक-529💐
💐प्रेम कौतुक-529💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
■ कविता
■ कविता
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
** सावन चला आया **
** सावन चला आया **
surenderpal vaidya
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
23/131.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/131.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हौसला अगर बुलंद हो
हौसला अगर बुलंद हो
Paras Nath Jha
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
Loading...