Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2018 · 1 min read

हम वंदे मातरम गायेंगे..

उठो वीर और तुम गरजो, वसुधा की लाज बचना है,
देश की रक्षा के खातिर, दुश्मन का शीश उड़ाना है।
फिर चाहे वो कोई भी हो, हम उसको मार गिराएंगे,
भारत माँ की शान में हम सब वंदे मातरम गाएंगे।।
हम वंदे मातरम गाएंगे…….

जब-जब शरहद पर आकर,, दुश्मन ने हमे ललकारा है,
तब-तब सीमा पर जाकर ,, हमने भी शीश उतारा है।
हम भारत माता के बेटे,, आतंकवाद को मिटायेंगे,
भारत माँ की शान में हम सब वंदे मातरम गाएंगे।।
हम वंदे मातरम गाएंगे……..

©प्रशान्त तिवारी”अभिराम”

Language: Hindi
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3421⚘ *पूर्णिका* ⚘
3421⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
झील बनो
झील बनो
Dr. Kishan tandon kranti
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
shabina. Naaz
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
Ranjeet kumar patre
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
..
..
*प्रणय प्रभात*
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
डॉक्टर
डॉक्टर
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
चिंगारी के गर्भ में,
चिंगारी के गर्भ में,
sushil sarna
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
Loading...