Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें

हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें।
किसको माने अपना साथी, सोहबत किसकी यहाँ हम करें।।
हम यह सोच रहे हैं ——————————-।।

इन गौरे मुखड़ों और बदन पर, हमें तो शक हो रहा है बहुत।
कब लूट ले हमको हुस्न वाले, यकीन इनपे क्या हम करें।।
हम यह सोच रहे हैं ——————————-।।

बाज़ार है यह सौदागरों का,पहले मुनाफा यहाँ देखते हैं।
इतने अमीर लेकिन हम नहीं है, दिल की बात क्या हम करें।।
हम यह सोच रहे हैं ——————————-।।

यह चांद जो रोशन लग रहा है, हो जायेगा गुम कल कहीं।
यह जिंदगी होगी रोशन किससे, उम्मीद किससे यह हम करें।।
हम यह सोच रहे हैं ——————————-।।

यहाँ दोस्ती जिसने भी की, इन फूलों और इन हुर्रों से।
हो गए वो बदनाम और बर्बाद, शौक यही क्या हम करें।।
हम यह सोच रहे हैं ——————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड  वाला कोई हिसाब नही है
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड वाला कोई हिसाब नही है
पूर्वार्थ
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
तेरे मेरे बीच में,
तेरे मेरे बीच में,
नेताम आर सी
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*प्रणय प्रभात*
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
surenderpal vaidya
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
दरकती ज़मीं
दरकती ज़मीं
Namita Gupta
दीवानी कान्हा की
दीवानी कान्हा की
rajesh Purohit
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
*सावन झूला मेघ पर ,नारी का अधिकार (कुंडलिया)*
*सावन झूला मेघ पर ,नारी का अधिकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"अजीब दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
यादो की चिलमन
यादो की चिलमन
Sandeep Pande
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
नादान प्रेम
नादान प्रेम
अनिल "आदर्श"
भाई
भाई
Kanchan verma
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
Ranjeet kumar patre
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
Keshav kishor Kumar
Loading...