Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे

हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
मर भी गए तो कहानियाँ छोड़ जाएंगे
डॉ तबस्सुम जहां

133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
"Sometimes happiness and peace come when you lose something.
पूर्वार्थ
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
2636.पूर्णिका
2636.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत
फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
कैसे करें इन पर यकीन
कैसे करें इन पर यकीन
gurudeenverma198
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
सच तो तस्वीर,
सच तो तस्वीर,
Neeraj Agarwal
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...