Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2022 · 2 min read

“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल जा रहल छी ”

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
================================
महान बनबाक लालसा हमरा हुये अथवा नहि हुये परञ्च हमर विभिन्य भंगिमा एहि फेसबुक पर इ दर्शबैत अछि कि हमहूँ उँच्चतम शिखर पर चढ़ि अपन विजय ध्वजा फहराबि! जन्म दिन ,शादी क सालगिरह ,बच्चा क जन्म दिन ,गृहप्रवेश ,परीक्षा मे सफलता ,सम्मान ,पारितोषिक ,समारोह ,उत्सव ,विदेश यात्रा ,हवाई यात्रा ,नव कार क खरीददारी ,पुस्तक विमोचन ,कविता पाठ आ नहि जानि कतेक विलक्षण क्षणक क प्रदर्शन एहि रंगमंच पर सब गोटे सब करैत छथि ! एतबे नहि प्रोफाइल चित्र केँ यदा -कदा गूगल स्वयं फेसबुक क रंगमंच पर उजागर करैत रहैत अछि !
हमर इच्छा रहैत अछि कि अधिकांशतः फेसबुक सँ जुड़ल लोक एकर अवलोकन करैथ ,लाइक करैथ आ यथोचित बधाई ,शुभकामना ,प्रशंसा ,समीक्षा ,सकारात्मक टिप्पणी ,आभार अभिनंदन ,प्रणाम ,आशीष ,ढाढ़स इत्यादि द क’ अनुगृहीत करैथ ! किछु एहनो लोक होइत छथि जिनका हमलोकनि व्यक्तिगत रूप सँ जानैत छियनि ! अन्यथा अधिकाशतः लोग अपरिचिते आ अनजान रहैत छथि ! हुनकर भंगिमा आ लेखनी सँ हुनकर परिचय मात्र भेटइत अछि !
कियो हमरा बधाई ,शुभकामना ,प्रशंसा ,समीक्षा ,सकारात्मक टिप्पणी ,आभार अभिनंदन ,प्रणाम ,आशीष ,ढाढ़स इत्यादि दैत छथि तखन हमर कंजूसी भरल प्रतिक्रिया हमरा अकर्मण्य बना दैत अछि जे स्वभावतः संदेह क परिसीमा मे आनि ठाड़ क दैत अछि ! कदाचित एहन लोक महान बनबाक क प्रयास मे त नहि छथि ? बधाई ,शुभकामना ,प्रशंसा ,समीक्षा ,सकारात्मक टिप्पणी ,आभार अभिनंदन ,प्रणाम ,आशीष ,ढाढ़स इत्यादि देबयवला पश्चाताप कर’ लगैत छथि आ पुनः आबय वला वर्ष मे बधाई ,शुभकामना ,प्रशंसा ,समीक्षा ,सकारात्मक टिप्पणी ,आभार अभिनंदन ,प्रणाम ,आशीष ,ढाढ़स इत्यादि देबय सँ कनि कन्नी काटय लगैत छथि !
आभार आ धन्यवाद केँ व्यक्त करबा केँ विधा भला के नहि जनैत अछि ? एहि फेसबुक क रंगमंच पर कियो श्रेष्ठ छथि ,कियो समतुल्य आ कियो कनिष्ठ छथि ! बधाई ,शुभकामना ,प्रशंसा ,समीक्षा ,सकारात्मक टिप्पणी ,आभार अभिनंदन ,प्रणाम ,आशीष ,ढाढ़स इत्यादि जखन वो लोकनि दैत छथि तखन हमरा गर्व हेबा क चाहि जे हमरा लोक प्रेम आ सिनेह करैत छथि आ सत्कार आ सम्मान सहो ! श्रेष्ठ लोकनि ढाढ़स आ प्रोत्साहन केलनि आ हम अकर्मण्यता स्वरूप हुनका मात्र “थैंक्स “ कहि कात भ जाइत छी ?
विश्व क कोनो भाषा हो शालीनता ,शिष्टाचार और मृदुलता के शब्द ओहि मे पूर्णतः निहित अछि ! परञ्च हम एहन प्रतिक्रिया सँ कोसो दूर भ जाइत छी ! अपन व्यस्तता ,अकस्मिता आ अकर्मण्यता हमरालोकनि केँ आनक सोझा महान नहि, अभद्र बना दैत अछि !
श्रेष्ठ केँ लिखि केँ प्रणाम करू ! फोटो प्रणाम सँ अपूर्ण शालीनता झलकैत अछि ! इतबे नहि समतुल्य आ कनिष्ठ केँ सहो हृदय सँ प्रतिक्रिया लिखि ! हमरालोकनि अत्यंत भाग्यशाली छी जिनका श्रेष्ठ लोकनि क सानिध्य प्राप्त भेल अछि ! श्रेष्ठ धरि सीमित नहि रहबाक चाहि अपितु हमरालोकनि केँ सबकेँ हृदय मे बसबाक चाहि अन्यथा “ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भ जायब ! ”
======================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत
08.12.2022

Language: Maithili
Tag: लेख
1 Like · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
खत्म हुआ जो तमाशा
खत्म हुआ जो तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
प्रेमदास वसु सुरेखा
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अयाग हूँ मैं
अयाग हूँ मैं
Mamta Rani
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ आज का संकल्प...
■ आज का संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
Anis Shah
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
"शाख का पत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
Loading...