Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

हम भारतीयों की बात ही निराली है ….

होंठों पर हसीं मगर ,
दिल में है गम भी ।
आंखों में आंसू तो है ,
मगर है शिकवा भी ।
टूटे हुए है हताश है ,
मगर छोड़ा नहीं हौंसला भी ।
रोज समस्याओं से जूझते है ,
मगर खड़े है डटकर भी ।
लूटे जाते है ,छले जाते है ,
मगर है किंचित विश्वास भी ।
डरे,सहमें से भी कभी रहते हैं ,
मगर छोड़ते नहीं जीवन आस भी ।
हम परस्पर लड़ते है ,झगड़ते भी है ,
मगर हम में परस्पर एकता भी ।
हां! हम है भारत के आम नागरिक,
करते हैं अपने देश से प्यार हर हाल में भी।

Language: Hindi
345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
"घूंघट नारी की आजादी पर वह पहरा है जिसमे पुरुष खुद को सहज मह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
VINOD CHAUHAN
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
बोझ
बोझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सूखा पेड़
सूखा पेड़
Juhi Grover
■सीखने योग्य■
■सीखने योग्य■
*प्रणय प्रभात*
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
"चलना सीखो"
Dr. Kishan tandon kranti
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
Love
Love
Kanchan Khanna
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
पूर्वार्थ
हौसला
हौसला
Monika Verma
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
Loading...