Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

हम बनाएँगे अपना घर

हम बनाएँगे अपना घर
होगा नया कोई रास्ता
होगी नयी कोई डगर
छोड़ अपनी राह तुम
चली आना सीधी इधर||

मार्ग को ना खोजना
ना सोचना गंतव्य किधर
मंज़िल वही बन जाएगी
साथ चलेंगे हम जिधर||

कुछ दूर मेरे साथ चलो
तब ही तो तुम जानोगी
हर ओर अजनबी होंगे
लेकिन ना होगा कोई डर ||

तुम अपनाकर मुझे
अपना जब बनाओगी सुनो
हम तुम वही रुक जाएँगे
होगा वही अपना शहर||

खुशियाँ, निष्ठा, समर्पण,त्याग, सम्मान की
ईट लगाएँगे जहाँ
प्रेम के गारे से जोड़
हम बनाएँगे अपना घर ||

© शिवदत्त श्रोत्रिय

481 Views
You may also like:
Little sister
Buddha Prakash
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
अरदास
Buddha Prakash
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
बंदर भैया
Buddha Prakash
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Meenakshi Nagar
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
पिता
Saraswati Bajpai
Loading...