Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

हम बच्चे

हम बच्चे

नन्हे-नन्हे हाथ जोड़कर
हम बच्चे माँगते वरदान।
प्रभु हमको देना ऐसा ज्ञान
कर सकें हम सबका सम्मान।
पढ़-लिखकर हम बनें महान
कभी न मन में आए अभिमान।
बना दो हमें इतना बलवान
झुका सकें हम आसमान।
देश के लिए होकर बलिदान
भारत को हम बनाएँ महान।
नन्हे-नन्हे हाथ जोड़कर
हम बच्चे माँगते वरदान।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
शेखर सिंह
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...