Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

हम तो यही बात कहेंगे

हमसे अगर पूछेंगे आप, हम तो यही बात कहेंगे।
आप जुदाई कल हमसे, बिल्कुल नहीं सह सकेंगे।।
हमसे अगर पूछेंगे आप—————-।।

हमने ऐसा कब कह दिया है, हमसे खता हुई नहीं है।
कि आप ही हो मुजरिम, हमसे कोई दगा हुई नहीं है।।
फिर भी मगर कल हमको, आप बेवफा नहीं कहेंगे।
हमसे अगर पूछेंगे आप——————-।।

आप ही हो खुशी और ख्वाब, इस जिंदगी में हमारे।
और नहीं है इतने करीब, जितने करीब हो आप हमारे।।
चाहे हम झगड़े बहुत है, तारीफ फिर भी आप करेंगे।
हमसे अगर पूछेंगे आप ———————–।।

हमपे जो भी शक है तुमको, वह शक आप मिटाओ।
हमसे नहीं शरमाओ तुम, परदा अपना यह हटाओ।।
हमसफर हमसे अच्छा, आप नहीं और पा सकेंगे।
हमसे अगर पूछेंगे आप—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
Ranjeet kumar patre
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*हम हैं दुबले सींक-सलाई, ताकतवर सरकार है (हिंदी गजल)*
*हम हैं दुबले सींक-सलाई, ताकतवर सरकार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . शंका
दोहा त्रयी. . . शंका
sushil sarna
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में
Santosh Shrivastava
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
गुलमोहर
गुलमोहर
डॉ.स्नेहलता
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
संस्कार संयुक्त परिवार के
संस्कार संयुक्त परिवार के
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फकीर का बावरा मन
फकीर का बावरा मन
Dr. Upasana Pandey
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
मेरे सपने
मेरे सपने
Saraswati Bajpai
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मेरा सुकून
मेरा सुकून
Umesh Kumar Sharma
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...