Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

हम आम से खास हुए हैं।

वो तशरीफ क्या लाए हुजरें में हमारें।
हर जुबां पर हो रहे हैं बस चर्चे हमारें।।

अजनबी से थे इस शहर में सबसे ही।
हम आम से खास हुए हैं शहर में सारे।।

ना मालूम था रहमत यूं नाजिल होगी।
देखो सलामी देने आए है चांद सितारें।।

कौन गवाही देगा कि ये हकीकत में है।
यकीं ना हो रहा है हमें आलम में सारे।।

इक पल में बदला मुस्तकबिल हमारा।
वो बनके आए खुशी जिंदगी में हमारे।।

परिंदों से कहो लौट आए अपने घरको।
हर फूल ही महका है गुलशन में हमारें।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
नेताम आर सी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
"बड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
जिससे मिलने के बाद
जिससे मिलने के बाद
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
2963.*पूर्णिका*
2963.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
आपसे कोई लड़की मोहब्बत नही करती बल्की अपने अंदर अंतर्निहित व
आपसे कोई लड़की मोहब्बत नही करती बल्की अपने अंदर अंतर्निहित व
Rj Anand Prajapati
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
Shweta Soni
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
टैडी बीयर
टैडी बीयर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
Swara Kumari arya
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
🙅पता चल गया?🙅
🙅पता चल गया?🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...