Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2021 · 3 min read

“हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया” के “अंगद” यानि सिद्धार्थ नहीं रहे

सिद्धार्थ शुक्ला का जन्म 12 दिसंबर 1980 ई. को मुंबई महाराष्ट्र में हुआ था और हृदय गति रुक जाने से आज 2 सितंबर 2021 ई. को निधन हो गया। दरवाज़ा खटकने के बाद जब उन्होंने दरवाज़ा नहीं खोला तो घर में मौजूद लोगों ने दरवाज़ा तोडा और देखा वह बेहोशी की हालत में पड़े हैं, जहाँ से उन्हें कूपर अस्पताल ले जाया गया। “सिद्धार्थ शुक्ला को जब वहां लाया गया तो उनकी सांसें थम चुकी थीं।” कूपर अस्‍पताल की ओर से दिए गए व्यक्तव्य में स्पष्ट किया गया था। सिद्धार्थ शुक्ला के परिवार में उनकी माता जी और दो बहने हैं। उनके पिता का पहले ही निधन हो चुका है। मॉडलिंग के दिनों में ही उन्होंने अपने पिता को खो दिया था।

बिग बॉस सीजन 13 को जीतने के बाद से सिद्धार्थ लगातार सुर्ख़ियों में बने हुए थे! ज्योतिष के अनुसार तेरह अशुभ होता है! पिछले बरस 2020 ई. कोरोना काल में यूँ तो फ़िल्मी दुनिया से जुड़े कई बेहतरीन कलाकार विदा हो गए हैं। मगर सुशान्त सिंह राजपूत के बाद किसी बड़े जवान अभिनेता की ये आकस्मिक मौत ने ये हमें दूसरा बड़ा सदमा दिया है। सुशान्त की आत्महत्या की गुत्थी अभी सुलझी नहीं है। सुशान्त मामले में हुई फजीहत से सबक लेते हुए मुम्बई पुलिस इस बार सिद्धार्थ के मामले में अतिरिक्त सावधानी बरत रही है! परिवार ने इसे प्राकृतिक मृत्यु बताया है! लेकिन कूपर अस्पताल के डाक्टर कोई जोखिम नहीं उठा रहे हैं और पोस्टमार्टम कर रहे हैं! जिस कारण देरी हो जाने से मृतक अभिनेता के शव का अंतिम संस्कार कल 3 सितंबर 2021 ई. को किया जायेगा!

सिद्धार्थ शुक्ल तेजी से उभरने वाले मुंबई के एक बेहतरीन भारतीय अभिनेता और मॉडल थे। उन्होंने 2008 के शो ‘बाबुल का आंगन” के द्वारा’ छोटे परदे टी.वी. से अपने अभिनय जीवन की शुरुआत की थी। उन्हें ‘लव यू जिंदगी’, ‘बालिका वधु’ और ‘दिल से दिल तक’ टीवी धारावाहिकों में निभाई गई यादगार भूमिकाओं के लिए जाना जाता है।

उन्होंने रियलिटी शो ‘झलक दिखला जा’, ‘फियर फैक्टर: खतरों के खिलाड़ी’ और ‘बिग बॉस 13’ में भी भाग लिया था। फ़िल्मी परदे पर 2014 ई. में आई “हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया” में सिद्धार्थ ने एक सहायक भूमिका “अंगद” के रूप में निभाई थी।

एक इंटरव्‍यू में सिद्धार्थ ने बड़ी बेबाकी से अपने विषय में बताया था, “मैं खेलकूद में ज्‍यादा था इसलिए पढ़ाई लिखाई में थोड़ा कमज़ोर रह गया। और इसी कारण मुझे यह भी नहीं पता था कि मैं भविष्य में क्या करुंगा? मेरे घर में सभी उच्च सर्विस क्‍लास नौकरी पेशा लोग हैं। अतः मुझे भी यही लगा कि मैं आगे जा कर नौकरी ही करुंगा। सो मेरे पल्ले कुछ नहीं पड़ा तो मैंने इंटीरियर डिजाइन में डिग्री का कोर्स कर लिया।’ वैसे सिद्धार्थ को स्कूल के वक़्त से ही टेनिस और फुटबॉल खेलने का बेहद शौक़ रहा और उन्होंने अपने विद्यालय का प्रतिनिधित्व भी किया। आगे इंटरव्‍यू में सिद्धार्थ ने खुलासा करते हुए कहा था, “मेरे पैर में चोट लगने की वजह से टेनिस और फुटबॉल दोनों ही खेल मैं अब खेल नहीं पाता हूं मगर कभी-कभार फ़ुरसत के क्षणों में टेबल टेनिस मैं आज भी खेलता रहता हूं।”

सिद्धार्थ से जुड़े लोगों के माध्यम से ऐसा भी सुनने में आ रहा है—सिद्धार्थ काफ़ी बीमार रहने लगे थे| उनका नियमित इलाज भी जारी था, पर उन्हें कुछ लाभ नहीं हो रहा था | उन्हें देखने वाले एक डॉक्टर ने मिडिया को बताया के सिद्धार्थ की दिल की धड़कन काफ़ी धीमी हो गई है | शायद यही मुख्य कारण रहा हो, उनके इस अचानक हार्ट अटैक के पीछे| सिद्धार्थ के पड़ोस में रहने वाले एक शख़्स ने उनका नाम न बताने की शर्त पर बताया था कि पिछले रात सिद्धार्थ शुक्ला घर आए थे तो उनकी बी.एम.डब्ल्यू. कार का पीछे का पूरा शीशा ही टूटा हुआ था, शायद उनका किसी के साथ झड़गा हुआ हुआ था और उसी टेंशन में ये अटैक आया हो |

ख़ैर, जितने मुँह उल्टी बातें! पर अभी सिद्धार्थ के पास छूने को एक आकाश था। बड़े परदे पर उनको कई फ़िल्मी रोल निभाने थे। उत्तरांचली साहित्य संस्थान की ओर से ईश्वर दिवन्गत आत्मा को शांति दे।

•••

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 483 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
Subhash Singhai
हम क्यूं लिखें
हम क्यूं लिखें
Lovi Mishra
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
कृषक
कृषक
Shaily
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
देवों के देव महादेव
देवों के देव महादेव
Neeraj Agarwal
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
तुम गए कहाँ हो 
तुम गए कहाँ हो 
Amrita Shukla
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
*
*"पापा की लाडली"*
Shashi kala vyas
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
Loading...