Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2022 · 1 min read

हमें हटानी है

** गीतिका **
~~
भेदभाव की हर बाधा अब, हमें हटानी है।
मुक्त भाव से क्षमता अपनी, नित्य दिखानी है।

पीछे कोई क्यों रह जाए, सोच विचार करें।
सबको साथ लिए चलने की, लगन लगानी है।

गति जीवन की थमें नहीं अब, मन में हो निश्चय।
स्वच्छ सदा रहता है देखो, बहता पानी है।

भ्रमर किया करते हैं गुंजन, जब बसंत आता।
फूलों पर मँडराती रहती, तितली रानी है।

गम को गले लगाते क्यों हो, रहो प्रसन्न सदा।
छोड़ निराशा जीवन के प्रति, प्रीति जगानी है।

बहुत घुल चुका जहर हवा में, दुविधा में जीवन।
रोक प्रदूषण बंद करो अब, हर मनमानी है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २५/११/२०२२

1 Like · 1 Comment · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
और तो क्या ?
और तो क्या ?
gurudeenverma198
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
Shashi kala vyas
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
अंसार एटवी
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
Yogendra Chaturwedi
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
-- धरती फटेगी जरूर --
-- धरती फटेगी जरूर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
*प्रणय प्रभात*
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
अभ्यर्थी हूँ
अभ्यर्थी हूँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
3233.*पूर्णिका*
3233.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
अजब गजब
अजब गजब
Akash Yadav
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
पूर्वार्थ
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
Loading...