Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-210💐

हमें न पता था कि वो इतने ग़रीब थे,
इश्क़ को तौला अमीरी की तराजू पर।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
*प्रणय प्रभात*
जिन्दगी ने आज फिर रास्ता दिखाया है ।
जिन्दगी ने आज फिर रास्ता दिखाया है ।
Ashwini sharma
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
शेखर सिंह
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
इश्क का बाजार
इश्क का बाजार
Suraj Mehra
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर पन्ना  जिन्दगी का
हर पन्ना जिन्दगी का
हिमांशु Kulshrestha
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
डॉक्टर
डॉक्टर
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
"महफिल में रौनक की कमी सी है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बचपन जी लेने दो
बचपन जी लेने दो
Dr.Pratibha Prakash
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
1) आखिर क्यों ?
1) आखिर क्यों ?
पूनम झा 'प्रथमा'
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
Loading...